इस्लामाबाद, :पाकिस्तान की सेना की आलोचना करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि सेना को इतिहास में देश में भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए कुछ नहीं करने के वास्ते जिम्मेदार ठहराया जाएगा।

इस्लामाबाद में एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ के नेता ने सेना के लिए “तटस्थ” शब्द का प्रयोग किया। उन्होंने कहा कि सेना को तटस्थ रहने की अपनी नीति पर पुनर्विचार करना चाहिए और देश की खराब होती आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए कदम उठाना चाहिए।

खान ने कहा, “मैं आज उन तटस्थ लोगों से पूछना चाहता हूं। क्या आपको पता है कि देश कहां जा रहा है? देश और अर्थव्यवस्था प्रगति कैसे कर सकते हैं जब आपको यह भी पता न हो कि अगले दो तीन महीने में क्या होगा। ’’